Sale!

TRUEAYUR Giloy Juice 1000ml + Lifestyle Plan

280.00

🙏 गिलोय एक ही ऐसी बेल है, जिसे आप सौ मर्ज की एक दवा कह सकते हैं। इसलिए इसे संस्कृत में अमृता नाम दिया गया है।
इसके पत्ते पान के पत्ते जैसे दिखाई देते हैं और जिस पौधे पर यह चढ़ जाती है, उसे मरने नहीं देती। इसके बहुत सारे लाभ आयुर्वेद में बताए गए हैं, जो न केवल आपको सेहतमंद रखते हैं, बल्कि आपकी सुंदरता को भी निखारते हैं।
गिलोय बढ़ाती है रोग प्रतिरोधक क्षमता:-
गिलोय एक ऐसी बेल है, जो व्यक्ति की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ा कर उसे बीमारियों से दूर रखती है। इसमें भरपूर मात्रा में एंटीऑक्सीडेंट्स होते हैं, जो शरीर में से विषैले पदार्थों को बाहर निकालने का काम करते हैं। यह खून को साफ करती है, बैक्टीरिया से लड़ती है। लिवर और किडनी की अच्छी देखभाल भी गिलोय के बहुत सारे कामों में से एक है। ये दोनों ही अंग खून को साफ करने का काम करते हैं।
ठीक करती है बुखार:-
अगर किसी को बार-बार बुखार आता है तो उसे गिलोय का सेवन करना चाहिए। गिलोय हर तरह के बुखार से लडऩे में मदद करती है। इसलिए डेंगू के मरीजों को भी गिलोय के सेवन की सलाह दी जाती है। डेंगू के अलावा मलेरिया, स्वाइन फ्लू में आने वाले बुखार से भी गिलोय छुटकारा दिलाती है।
डायबिटीज के रोगियों के लिए:-
गिलोय एक हाइपोग्लाइसेमिक एजेंट है यानी यह खून में शर्करा की मात्रा को कम करती है। इसलिए इसके सेवन से खून में शर्करा की मात्रा कम हो जाती है, जिसका फायदा टाइप टू डायबिटीज के मरीजों को होता है।
पाचन शक्ति बढ़ाती है:- 
यह बेल पाचन तंत्र के सारे कामों को भली-भांति संचालित करती है और भोजन के पचने की प्रक्रिया में मदद कती है। इससे व्यक्ति कब्ज और पेट की दूसरी गड़बडिय़ों से बचा रहता है।
कम करती है स्ट्रेस:-
गलाकाट प्रतिस्पर्धा के इस दौर में तनाव या स्ट्रेस एक बड़ी समस्या बन चुका है। गिलोय एडप्टोजन की तरह काम करती है और मानसिक तनाव और चिंता (एंजायटी) के स्तर को कम करती है। इसकी मदद से न केवल याददाश्त बेहतर होती है बल्कि मस्तिष्क की कार्यप्रणाली भी दुरूस्त रहती है और एकाग्रता बढ़ती है।
गठिया में मिलेगा आराम:-
गठिया यानी आर्थराइटिस में न केवल जोड़ों में दर्द होता है, बल्कि चलने-फिरने में भी परेशानी होती है। गिलोय में एंटी आर्थराइटिक गुण होते हैं, जिसकी वजह से यह जोड़ों के दर्द सहित इसके कई लक्षणों में फायदा पहुंचाती है।
कम होगी पेट की चर्बी:-
गिलोय शरीर के उपापचय (मेटाबॉलिजम) को ठीक करती है, सूजन कम करती है और पाचन शक्ति बढ़ाती है। ऐसा होने से पेट के आस-पास चर्बी जमा नहीं हो पाती और आपका वजन कम होता है।
खूबसूरती बढ़ाती है गिलोय:-
गिलोय न केवल सेहत के लिए बहुत फायदेमंद है, बल्कि यह त्वचा और बालों पर भी चमत्कारी रूप से असर करती है|
गर्भवती और स्तनपान कराने वाली महिलाओं को गिलोय के सेवन से बचना चाहिए। पांच साल से छोटे बच्चों को गिलोय न दें।
Benefits
1. Boosts immunity to protect from viruses
infection
2. Improve digestion
3. Helps in controlling blood sugar level
4. Helps in cough and cold

Description

Giloy (Tinospora cardifolia) has a multivariatevine. Its leaves are like betel leaves. It is known by many names in Ayurveda, such as Amrita, Guduchi, Chinnaruha, Chakrangi, etc. ‘It is named Amrita by virtue of being multivalent and elixir-like.’ In Ayurveda literature, it is considered to be the great medicine of fever and has been named Jeevatika. The creeper of Giloy is commonly found climbing in places like forests, rams of the fields, rocks of the mountains, etc. It is also found around neem, mango tree. The tree on which it forms its base, its properties are also included in it.

In Ayurveda, two factors cause fever-Ama (toxic remains in the body due to improper digestion) and the second one is due to some foreign particles. Giloy acts wonderfully in chronic, recurrent fevers. It is an anti- inflammatory, antipyretic herb which helps to boost your immunity to fight against the infection and also helps in early recovery.
Giloy has a Javarghana (antipyretic) property to reduce fever.

Suggested uses:
Take 15-25 ml twice a day with an equal amount of water or as directed by a physician.

सेवन विधि:

15-20ml सुबह शाम खाना खाने के 30 मिनट बाद बराबर मात्रा में गुनगुने पानी के साथ

Storage:

Store in a cool & dry place. Keep away from direct sunlight. Use within 45 days after opening the container.

Caution:
Not to be consumed during pregnancy, dysentery & menses.